Ticker

6/recent/ticker-posts

Kisi bhi company ki agency kaise len - ऐजेंसी लेने के फायदे और नुकसान

kisi bhi company ki agency kaise len

आज की पोस्ट में जानेंगे kisi bhi company ki agency kaise len अगर आप कम लागत में कोई काम करना चाहते है तो कंपनी की एजेंसी लेना अच्छा विकल्प माना जाता है इससे आप एक ब्रांड से जुड़ जाते है जिससे आपका बिजनेस किसी भी कंडीशन में चल पड़ता है तो आज हम आपको इसी की जानकारी देने वाले है अगर आपको भी किसी कंपनी को dealership chahie तो आगे आर्टिकल में बताया गया है kisi bhi company ki dealership kaise len, kisi bhi company ki franchisee kaise len.


Agency का मतलब क्या होता है-

एजेंसी का मतलब बहुत सिंपल है किसी बड़े ब्रांड या बड़ी कंपनी के नाम से छोटी दुकान खोलना, जिसकी मदद से उस ब्रांड के सभी प्रोडक्ट आसानी से जनता तक पहुचाए जा सकें। इन प्रोडक्ट को एक दुकाम मे स्टोर कर के रखा जाता है इसके बाद इन्हें अन्य रिटेलर या ग्राहकों को बेचा जाता है।


कंपनी की एजेंसी / डीलरशिप लेने के फायदे - Benefits of taking an agency

अगर आप किसी कंपनी की agency लेतें है या उस कंपनी के डिस्ट्रीब्यूटर बन जाते है तो आपको इस दौरान कई तरह के फायदे मिलते है। तो आइए जानते है डीलरशिप लेने के फायदे।


1. बड़े ब्रांड से जुड़ना

agency लेने का सबसे पहला और बड़ा फायदा यह है कि आप सीदा उस कंपनी से जुड़ जाते है। फिर कंपनी अपने प्रोडक्ट आपको उपलब्ध कराती है और आपको इन्हें कंपनी द्वारा निर्धारित मूल्य पर बेचना होता है।


ऐसा करने से कंपनी का प्रोडक्ट भी ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास पहुचता है और आपको भी एक बड़ी कंपनी के साथ जुड़कर पैसे कमाने का मौका मिलता है। साथ ही आपका बिजनेस भी जल्द ही ग्रो होता है क्योंकि आप एक पहले से नामी और बड़ी कंपनी से जुड़े होते है। जिससे आपको उस कंपनी के प्रोडक्ट बेचने में समस्या नहीं आती और आसानी से आपकी बिक्री होती है।


2. मुफ्त बिजनेस की ट्रेनिंग

किसी भी business को चलाने के लिए ट्रेंनिंग एक जरुरी हिस्सा है आप जब किसी बिजनेस में नए होते है तो उसे चलाने का अनुभव और आईडिया आपके पास नहीं होता है। जिससे बिजनेस में घाटा खाकर बैठ जाते है।


इसलिए ऐजेंसी लेने का ये बाद फायदा है कि आपको मुफ्त ट्रेंनिंग दी जाती है हर कंपनी एजेंसी देने से पहले distrubuter मुफ्त ट्रेनिंग की सुविधा देती है जिससे आप बिजनेस के बारे में जान सकें और प्रोडक्ट बेचना सीख सकें।

 

3. सफलता की संभावना

जैसा कि हमने बताया agency business में आप एक बड़ी कंपनी से जुड़े होते है जिससे किसी नामी प्रोडक्ट को बेचना आसान हो जाता है। क्योंकि लोगों का विस्वास कंपनी के लिए पहले से बना होता है इसलिए आपको प्रोडक्ट बेचने के किए परेशान होने की जरूरत नहीं पड़ती।


4. कम जोखिम

ब्रांडेड चीगों पर लोगों को भरोसा होता है इसलिए इन्हें लेने की होड़ मचि होती है। यहाँ आपको भागा दौड़ी करने की आवश्यकता नहीं ग्राहक खुद आपको तलाशते हुए आएगा। लोगों को अच्छी क्वालिटी का सामान मिलेगा। जिससे आपका बिजनेस चलता रहेगा।


5. ज्यादा बचत

एजेंसी के बिजनेस में अच्छा प्रॉफ़िट मार्जिन मिलता है अधिकतर डीलरशिप कंपनियां प्रोडक्ट पर 10 प्रतिशत तक  मार्जिन देती है। इसके अलावा agency लेने के और भी कई फायदे है जैसे कि...


  • जैसे प्रोडक्ट या दुकाम का प्रोमोशन करने की आवश्यकता नहीं।
  • मोलभाव की झंझट खत्म।
  • प्रोडक्ट की कीमत पहले से ही निर्धारित होती है।
  • आपको सामान बनाने की जरूरत नहीं क्योंकि कंपनी द्वारा बना हुआ प्रोडक्ट आपको मिलता है।
  • कम लागत में अच्छा बिजनेस करने का मौका मिलता है।
  • एक नामी कंपनी के साथ जुड़ते ही कही न कही आपका नाम भी बनता है।
  • आपको लोग सम्मान की निगह से देखतें है।



किसी कंपनी की एजेंसी कैसे लें

पहले आपको बता दें किसी कंपनी की एजेंसी लेने का मतलब होता है किसी नामी कंपनी का नाम इस्तेमाल कर उनके प्रोडक्ट-आइटम बेचना अगर आप कम पैसों में खुदका व्यवसाय शुरू करना चाहते है तो किसी कंपनी की एजेंसी लेना अच्छा बिजनेस माना जाता है।


क्योंकि आप इस बिजनेस में किसी नामी बड़ी कंपनी का प्रोडक्ट बेचते है इस कारण आपके बिजनेस की चलने की और सफल होने की पूरी संभावना रहती है इसे ही कंपनी की एजेंसी लेना या डीलरशिप लेना है फ्रेंचाइजी कहा जाता है।


आक के समय में आपने ऐसी कई दुकानें देखी होंगी जो केवल एक कंपनी का ही सामान बेचती है जैसे पतंजलि, अमूल, सांची दूध-दही, एमवाय, हौंडा बाइक शोरूम, आदि दरहसल ये लोग किसी विशेष एक कंपनी की एजेंसी लिए होते है जिससे ग्राहकों को उस कंपनी के सभी प्रोडक्ट एक ही जगह पर मिल जाते है।


फ्रेंचाइजी कैसे लें

अगर आप किसी कंपनी की एजेंसी लेने की सोच रहे है तो हम आपको सबसे सरल,आसान और कारगर तरीका बताएंगे जिससे आप बिना किसी फ्रॉड के सीदा किसी भी कंपनी का डीलरशिप/फ्रेंचाइजी/एजेंसी ले सकेंगे।


अगर आप किसी कंपनी का एजेंसी लेना चाहते है तो सबसे अच्छा तरीका है सीदा एजेंसी से सम्पर्क करना इससे आप कंपनी के नियम और शर्तो को भी जान पाएंगे उदारण के लिए आप पतंजलि की एजेंसी लेना चाहते है तो सीदा कस्टमर नंबर पर कॉल करें इसके अलावा आप कंपनी की वेबसाइट पर जाकर या मेल कर के भी ज्यादा से ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते है और उस कंपनी की डीलरशिप ले सकते है।


यदि आप किसी कंपनी की एजेंसी लेने में कंफ्यूज़ है तो सबसे अच्छा तरीका है अपने इलाके को जाने किस ब्रांड-प्रोडक्ट की डिमांड है उसी आधार पर आप सही कम्पनी चुन सकेंगे और बिजनेस को शुरू कर सकेंगे आगे कुछ टॉप एजेंसी कंपनी के नाम दिए गए है जो भरोसेमंद होने के साथ अच्छा साथ भी देती है।


ये भी पढ़ें

> लें इंडियन गैस एजेंसी, लगत कम कमाई ज्यादा 💸



भारत की टॉप 10 पॉपुलर एजेंसी कंपनियों के नाम

आगे आपके लिए भारत की टॉप एजेंसी कंपनियों के नाम दिए गए है जिनकी मर्केट वैल्यू प्रोडक्ट दोनो अच्छा है आप इनसे जुड़ कर कुछ ही दिनों में बिजनेस शुरू कर सकते है।

  1. प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना फ्रेंचाइजी
  2. पतंजलि
  3. अमूल
  4. स्पीक इंग्लिश जिम
  5. सियाराम सिल्क मिल्स लिमिटेड
  6. दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट
  7. एक्सपप्रेस कार वॉश
  8. 3 एम कार केयर
  9. महिंद्रा फर्स्ट चॉइस व्हील्स लिमिटेड
  10. ईजीगो

उमीद करता हूँ अब आप जान गए होंगे किसी कंपनी की फ्रेंचाइजी कैसे आप किस कंपनी की एजेंसी लेना चाहते है हमे कमेंट में जरूर बताएं।


Company की Agency लेने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

किसी कंपनी की dealership और agency लेने से पहले आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना जरूरी है जिसके बाद आप आगे होने वाले नुकसान से बच सकतें है तो चलो जानते है Company की Agency लेने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।


एजेंसी लेने से पहले सही जगह का चुनाव करना जरूरी है।

आपको एजेंसी लेने से पहले सही कंपनी का चुनाव करना भी जरूरी है इसलिए हमेशा ऐसी कंपनी की एजेंसी लें जिसकी आपके इलाके में पहले किसी ने न एजेंसी ली हो। इससे आपके बिजनेस का चलने की ज्यादा सम्भना होगी।

कंपनी और उत्पाद का चयन करने पहले आपको ये जरूर पता करना चाहिए कि यदि उत्पाद किसी भी कारण से नहीं बेचा जाता है, तो कंपनी की जमा राशि वापस करने की प्रक्रिया क्या है?

एजेंसी लेने से पहले हमेशा कंपनी की टर्म्स और कंडीशन जरूर पढ़ें।

आप जिस भी ब्रांड की एजेंसी खोलना चाहते हैं, पहले जांच लें कि बाजार में उस ब्रांड का उत्पाद मांग में है या नहीं, ताकि आप जान सकें कि इस ब्रांड कंपनी की एजेंसी काम करेगी या नहीं।

लोग ब्रांडेड सामान सिर्फ गुणवत्ता वाले उत्पाद प्राप्त करने के लिए खरीदना पसंद करते हैं, इसलिए कंपनी एजेंसी खरीदते समय यह देखना चाहिए कि क्या उस कंपनी के उत्पाद की गुणवत्ता मजबूत है।


FAQs - Gas agency को लेकर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

डिस्ट्रीब्यूटर किसे कहते है?

जो व्यक्ति किसी बड़े ब्रांड या कंपनी की एजेंसी खोलता है उसे कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर कहा जाता है।


भारत की टॉप 10 एजेंसी कंपनी कौन सी है?

  1. Patanjali Ayurved
  2. Pradhanmantri Koushal Vikash Yojna Franchisee
  3. Siyaram Silk Mills Limited
  4. Speak English Gym (SEG)
  5. Domino's Pizza & Pizza Hut
  6. Easygon One Travel And Tour Limited
  7. Mahindra First Choice Wheels Limited
  8. 3M Car Care
  9. Express Car Wash
  10. Delhi Paramedical and Management Institute

एजेंसी लेने में कितना खर्च आता है?

एजेंसी लेने का खर्च ब्रांड और प्रोडक्ट पर निर्भर करता है अगर आप किसी बड़ी कंपनी की एजेंसी बड़े स्तर पर लेना चाहते है तो आपका करोड़ो तक का भी खर्चा आ सकता है वही कुछ एजेंसी कंपनी ऐसी भी है जिन की एजेंसी लाखों रुपये के खर्चे के अंदर ली जा सकती है।

एजेंसी लेने का तरीका क्या है?

एजेंसी लेनी की प्रोसेस काफी लंबी होती है जिस में आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना होता है हम इसके ऊपर पूरा लेख लिखा चुके है जिसे आपको जरूर पढ़ना चाहिए।


हमारे अन्य आर्टिकल पढ़ें

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

एडवरटाइज हटाएं यहाँ क्लिक करें