Lata mangeshkar biography - लता मंगेशकर का जीवन परिचय, जाने जन्म से लेकर मृत्यु की जानकारी? (Hindi)

लता मंगेशकर जीवनी


भारत रत्न लता मंगेशकर भारत की सबसे लोकप्रिय और सम्मानित गायिका हैं जिनका छह दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा रहा है।  जिनकी आवाज ने छह दशक से भी ज्यादा समय से संगीत की दुनिया को संगीत दिया है। लेकिन हाल ही में उनका निधन हो चुका है इसलिए अक्सर लोग गूगल पर लोग सर्च कर रहें है लता मंगेशकर का जन्म कब हुआ थालता मंगेशकर की मृत्यु कब हुई यानी लाता मंगेशकर का सम्पूर्ण जीवन परिचय....

Biography of Lata Mangeshkar (जीवनी)


भारत की 'स्वर कोकिला' लता मंगेशकर ने 25 भाषाओं में 50,000 से अधिक गाने गाए हैं।  उनकी आवाज सुनकर कभी किसी की आंखों में आंसू आ गए तो कभी सीमा पर खड़े जवानों को सहारा मिला. लता जी अभी भी सिंगल हैं, उन्होंने खुद को पूरी तरह से संगीत के लिए समर्पित कर दिया है। लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में ही नहीं विदेशों में भी एक पार्श्व गायिका के रूप में रही है। अपनी बहन आशा भोंसले के साथ लता जी का सबसे बड़ा योगदान फिल्म गायन में रहा है।

When was Lata Mangeshkar born? (जन्म)


कुमारी लता दीनानाथ मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929 को इंदौर, मध्य प्रदेश में हुआ था।  उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर एक कुशल थिएटर गायक थे। दीनानाथ जी ने लता को संगीत सिखाना तब शुरू किया जब वह पांच साल की थीं। उनकी बहनें आशा, उषा और मीना भी उनके साथ पढ़ाई करती थीं। लता जी ने 'अमन अली खान साहब' और बाद में 'अमानत खान' से भी पढ़ाई की। 

लता मंगेशकर हमेशा ईश्वर प्रदत्त मधुर आवाज, जीवंत अभिव्यक्ति और चीजों को बहुत जल्दी समझने की अविश्वसनीय क्षमता का उदाहरण रही हैं। इन्हीं खूबियों के कारण उनकी इस प्रतिभा को बहुत जल्द पहचान मिली। लेकिन पांच साल की छोटी सी उम्र में ही लाता जी को पहली बार किसी नाटक में अभिनय करने का मौका मिला। इसकी शुरुआत अभिनय से हुई होगी, लेकिन आपकी रुचि केवल संगीत में थी।


उनके पिता की मृत्यु वर्ष 1942 में हुई थी। इस दौरान लाता जी केवल 13 वर्ष की थीं। नवयुग चित्रपट फिल्म कंपनी के मालिक और उनके पिता के दोस्त मास्टर विनायक (विनायक दामोदर कर्नाटकी) ने उनके परिवार की देखभाल की और लता मंगेशकर को एक गायिका और अभिनेत्री बनने में मदद की।

Conflict in Lata ji's life (संघर्ष)

 
सफलता की राह कभी आसान नहीं होती। लता जी को भी अपनी जगह बनाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। कई संगीतकारों ने शुरू में पतली आवाज के कारण आपको काम देने से मना कर दिया था। लता जी की तुलना उस समय की प्रसिद्ध पार्श्व गायिका नूरजहाँ से की जाती थी।  लेकिन धीरे-धीरे अपनी लगन और प्रतिभा के बल पर आपको काम मिलने लगा। लता जी की अद्भुत सफलता ने लता जी को फिल्मी दुनिया की सबसे मजबूत महिला बना दिया।

Lata mangeshkar husband Name (Hindi)


लता मंगेशकर के पति का नाम : दोस्तों, आप शायद नहीं जानते होंगे कि लता मंगेशकर जी ने कभी शादी नहीं की थी क्योंकि उन्होंने तय कर लिया था कि वह जीवन भर बिना शादी के ही रहेंगी। इसलिए लता जी का कोई पति नहीं था। बल्कि उन्होंने संगीत को हो अपना हमसफर बना लिया था।

Lata ji's career (करियर)


लता जी को सबसे अधिक गाने रिकॉर्ड करने का गौरव भी प्राप्त है। आपने फिल्मी गानों के अलावा गैर फिल्मी गाने भी बहुत अच्छे से गाए हैं। लता जी की प्रतिभा को 1947 में पहचान मिली, जब उन्हें फिल्म "आपकी सेवा में" में एक गाना गाने का मौका मिला। इस गाने के बाद आपको फिल्मी दुनिया में पहचान मिली और एक के बाद एक कई गाने गाने का मौका मिला. इनमें से कुछ प्रसिद्ध गीतों का उल्लेख करना यहाँ अप्रासंगिक नहीं होगा। 

लता जी का पहला शाहकार गीत जिसे कहा जाता है वह 1949 में गाया गया "आएगा आने वाला" था, जिसके बाद आपके प्रशंसकों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ने लगी। इस बीच आपने उस समय के तमाम मशहूर संगीतकारों के साथ काम किया।  अनिल विश्वास, सलिल चौधरी, शंकर जयकिशन, एस.डी. बर्मन, आर.डी. बर्मन, नौशाद, मदनमोहन, सी. रामचंद्र आदि सभी संगीतकारों ने आपकी प्रतिभा को लोहा माना। 

लता जी ने दो आंखें बारह हाथ, दो बीघा ज़मीन, भारत माता, मुग़ल-ए-आज़म आदि जैसी बेहतरीन फ़िल्मों में गाने गाए हैं। आपने "महल" जैसी फ़िल्मों में अपनी आवाज़ के जादू से इन फ़िल्मों की लोकप्रियता में इजाफा किया है। "बरसात", "एक थी लड़की", "बड़ी बहन" आदि। 

इस अवधि के दौरान उनके कुछ प्रसिद्ध गीत थे: "ओ सजना बरखा बहार आई" (फ़िल्म-परख 1960), "आज रे परदेसी" (फ़िल्म-मधुमती 1958),  "इतना ना मुझे तू प्यार बढ़ा" (फ़िल्म-छाया 1961), "अल्ला तेरो नाम" ", (फ़िल्म-हम दोनों 1961), "एहसान तेरा होगा मुझे पर", (फ़िल्म-जंगली 1961), "ये समा" ( फ़िल्म-जब जब फूल खिले-1965) आदि।

When did Lata Mangeshkar die? (मौत)


भारत रत्न गायिका लता मंगेशकर का रविवार को 92 वर्ष की आयु में मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन हो गया है। बता दें, लता मंगेशकर को 8 जनवरी को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में कोरोना और निमोनिया के कारण भर्ती कराया गया था, जहां 6 फरवरी 2022 को उन्होंने अंतिम सांस ली।

लाता मंगेशकर जी को हमारी और से दो लाइन...



"कहानी ख़त्म हुई और ऐसी ख़त्म हुई
कि लोग रोने लगे तालियाँ बजाते हुए"

Post a Comment

0 Comments