वट सावित्री व्रत पूजा विधि इन हिंदी | vat savitri vrat 2022 vidhi




वट सावित्री व्रत पूजा विधि इन हिंदी 


vat savitri vrat 2022 vidhi


जो महिलाएं वट सावित्री व्रत रखती हैं, वे स्नान के बाद सावित्री और सत्यवान की मूर्तियों को वट वृक्ष के नीचे रखती हैं और उनकी पूजा करती हैं।  इसके बाद बरगद के पेड़ पर जल चढ़ाना चाहिए।  कच्चे सूती धागे से पेड़ के चारों ओर सात बार बांधें।  अब महिलाएं सावित्री-सत्यवन की प्रतिमा के सामने पूजा सामग्री चढ़ाएं।

वट सावित्री व्रत पूजा विधि इन हिंदी 


  • शिवजी ने देवी पार्वती से कहा है कि सावित्री व्रत के दिन प्रातः स्नान करके सास ससुर का आशीर्वाद लेना चाहिए।
  • वट वृक्ष की समीप बैठकर पंचदेवता और विष्णु भगवान का आह्वान करें।
  • तीन कुश और तिल लेकर ब्रह्माजी और देवी सावित्री का आह्वान करें। ओम नमो ब्रह्मणा सह सावित्री इहागच्छ इह तिष्ठ सुप्रतिष्ठिता भव।
  • इसके बाद जल, अक्षत, सिंदूर, तिल, फूल, माला, नैवेद्य, पान, अर्पित करें।
  • एक आम या अन्य फल लेकर उसके ऊपर से वट पर जल अर्पित करें।
  • कच्चा सूत लपेटते हुए 7 या 21 बार वट वृक्ष की परिक्रमा करें।

Post a Comment

0 Comments

Join Telegram

Join Letest Mobile News के लिए Telegram Join करें

Join Telegram